वाहनचालन प्रशिक्षण : गियर बदलना, बाइटिंग बिन्दू और मोड़ लेना (दिन ३)

कार प्रशिक्षण : गियर बदलना, बाइटिंग बिन्दू / हाफ क्लच
आज भी एक घंटे की ही ट्रेनिंग हुई। कार मैंने ही स्टार्ट की। सीट को सेट किया, क्लच नीचे और कार स्टार्ट। हल्का सा ब्रेक , गियर 1 और हैंडब्रेक डाउन। हाफ क्लच और धीरे से ब्रेक रीलीज़ करने से कार आगे निकली। राइट लॉक लगाकर कार को अबाउट टर्न लिया और आगे बढे। बम्प पर क्लच नीचे, ब्रेक से धीमे हुए, और बम्प से ठीक पहले ब्रेक को छोड़ दिया, पर क्लच नीचे ही है। बम्प निकल जाने के बाद हाफ कल्च पर आकर एक्सेलेरेटर।

मोड़
लेफ्ट टर्न शार्प लेना चाहिए और राइट टर्न लॉंग। इंडीकेटर का उपयोग करें। धीरे टर्न लें।

लेन व कार की चौड़ाई का आकलन
स्टीयरिंग बस हल्का सा दाएँ बाएँ करने से सड़क पर कार की दिशा बनी रहती है। ज्यादा स्टीयरिंग टर्न के समय लेना चाहिए जब गति धीमी हो। कार की चौड़ाई भाँपने के लिए वाइपर के अंदर से तीरछा देखें तो सड़क का किनारा दिखना चाहिए। गड्ढे से ज्यादा परहेज की जरूरत नहीं, हाँ धीमे हो सकते हैं।

गियर बदलना
कार 1 गीयर पे शुरू होनी चाहिए। क्लच को बाइटिंग पोइंट पर रखें और ब्रेक को धीरे से छोड़ें। फिर एक्सेलेरेटर से स्पीड 20 तक ले जाएँ, क्लच दबाएँ, गीयर 2 पर करें, क्लच छोड़ें और छोड़ते के साथ ही एक्सेलेरेटर दबाते रहें स्पीड बढाने के लिए।

वाहनचालन प्रशिक्षण
परिचय, प्रदर्शन और अनुकरण (दिन १)
यातायात के नियम और कार की जाँच (दिन २)
गियर बदलना, बाइटिंग बिन्दू और मोड़ लेना (दिन ३)
8 बनाना और गियर ३,४ (दिन ४)
रिवर्स गियर, पार्किंग, टायर बदलना (दिन ५)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें