वाहनचालन प्रशिक्षण : 8 बनाना और गियर ३,४ (दिन ४)

आज बस ट्रेनिंग हुई 2 घंटे की।

स्टीयरिंग से 8 और 0 बनाना
कल घटिया स्टीयरिंग कंट्रोल को देखकर ट्रेनर ने स्टीयरिंग सिखाया। दो नारियल के पेड़ के बीच 8 की आकृति बनाना। इसके लिए लेफ्ट या राइट लॉक से पेड़ के पास से टर्न लेना है। दोनो दिशाओं में प्रयास करें। इसके बाद U टर्न सीखना है। इसके लिए एक पेड़ के पास से U टर्न लीजिए और कार सीधी कीजिये। जैसे ही दूसरी पेड़ के पास पहुँचे फिर U टर्न लीजिए और कार सीधी कीजिये। इसकी दोनो दिशाओं में अभ्यास करें। हमेशा टर्निंग पोईंट के पास से शार्प टर्न लें, अन्यथा गलती हो सकती है।

गियर 3 और 4

सीधे मुख्य सड़क पर जाकर सबसे पहले हमने 20 की गति पर गीयर 2 लगाया। फिर कार तेज की और 30 की गति पर गियर 3। थोड़ी और तेज की और 40 की गति पर गियर 4। जल्दी ही बम्पर आ गया और सीधे 4 से 2 गियर पर आ गये। स्टीयरिंग सीधी और कार को तेज अथवा धीमी करने की आदत पड़ जाने से वाहनचालन आसान है। जब भी कार तेज ना करनी हो तो ब्रेक पर पैर बना कर रखें, क्या पता कब जरूरत पड़े। कार तेज तभी करें जब सड़क पर आगे जाना आसान हो। हल्के ब्रेक के लिए क्लच दबाना जरूरी नहीं, पर तेज ब्रेक के लिए क्लच ना दबाने से कार बंद हो जाती है। आज हमारे साथ एक दो बार ऐसा हुआ पर गियर 1 पर जब कार रूकी या बहुत धीमी थी। U टर्न लेकर कार तुरन्त सीधी करना बहुत आवश्यक है, इसका अभ्यास करें। गियर तुरन्त बदलें।

सुरक्षा के ध्यान से हॉर्न बजाते रहें। बच्चे या महिलाएँ सड़क पर हों तो सावधानी से जाएँ, धीरे जाएँ। सड़क टूटी-फूटी हो तो गियर 1 पर धीरे धीरे कार को निकाल लें। स्टीयरिंग पर मजबूत पकड़ जरूरी है, अन्यथा दिशा अनचाहे बदल सकती है। अगर अच्छी सड़क हो तो गियर 2 से नीचे जाने की जरूरत नहीं, इसपर बम्पर भी निकाल सकते हैं।

सही अंतराल पर कार को रोककर आराम करें, और फिर आगे बढें।

वाहनचालन प्रशिक्षण
परिचय, प्रदर्शन और अनुकरण (दिन १)
यातायात के नियम और कार की जाँच (दिन २)
गियर बदलना, बाइटिंग बिन्दू और मोड़ लेना (दिन ३)
8 बनाना और गियर ३,४ (दिन ४)
रिवर्स गियर, पार्किंग, टायर बदलना (दिन ५)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें