संस्कृत लिप्यन्तरण : तकनीकि विवरण (भाग-४)

संस्कृत लिप्यन्तरण के इस भाग में लिप्यन्तरक उपकरण पर चर्चा की गई है। इससे रूचिकर मित्र सीधे इसमें बदलाव या उत्थान के लिए सुझाव दे सकते हैं। इसकी विस्तारित चर्चा भारतीय भाषा अंतः लिप्यन्तरण : लिप्यन्तरक रूपरेखा पर भी की गयी है।

१) भारतीय भाषा सूची : मुख्य पन्ने पर एक सेलेक्ट मेनू लगाया जाता है जिसमें समस्त ९ भारतीय लिपियों की सूची हो - हिन्दी, बंगाली, पंजाबी, गुजराती, ओड़िआ, तमिल, तेलुगू, कन्नड़, मलयालम। इसी मेनू में से जिस भाषा का चयन होगा, उसमें देवनागरी में लिखे लेख का लिप्यन्तरण किया जाएगा।

२) अंतःभाषा लिप्यन्तरण मूल सामग्री : एक array जिसमें एक भाषा से दूसरे भाषा में लिप्यन्तरण की मूल जानकारी निहित हो।

  • इसमें मूल भाषा की प्रारंभिक यूनीकोड सँख्या, गंतव्य भाषाओं की सूची, और प्रत्येक गंतव्य भाषा के प्रारंभिक यूनीकोड सँख्या से अंतर सहेजे गए हैं।


३) वर्णमेल (चिन्ह, स्वर) : इसमें एक भाषा के वर्ण को दूसरे भाषा के वर्ण से मेल कराया जाता है। अगर दोनों भाषा में वर्ण के यूनीकोड मेल खाते हों, अर्थात् प्रारंभिक यूनीकोड सँख्या से समान दूरी पर हों, तो उसमें भाषा के अंतर को जोड़ कर नया वर्ण निकाल लिया जाता है।

  • अगर दोनों भाषा में वर्ण के यूनीकोड मेल नहीं खाते हों, तो सही वर्ण की माप का निर्माण आवश्यक है। इसके लिए संबंधित भाषा के संस्कृतज्ञाता से संपर्क स्थापित कर इन अशुद्धियों को दूर किया जा सकता है। ४. पृष्ठ के title का लिप्यन्तरण।

५) एचटीएमएल टैग : पृष्ठ के प्रत्येक tag  का लिप्यन्तरण : attribute और textnode

  • प्रत्येक tag के लिए जो दृष्चित attribute हैं उनकी सूची और जिनमें textnode आता है उनकी सूची। ६. अगर लिप्यन्तरण दो भाषाओं में हो जिसमें एक भी देवनागरी नहीं है, तो पहले प्राथमिक भाषा के लेख को देवनागरी में और उस देवनागरी लेख को गंतव्य भाषा में लिप्यन्तरित किया जाएगा। ऐसा अशुद्धियों को कम करने के लिए किया गया है।

६) बूलेट सूची : बूलेट में आने वाली सँख्या को भारतीय लिपि के रूप में दर्शाने के लिए अभी नए ब्राउजर्स में समर्थन आ रहा है। इसे बदलने के लिए -moz-devanagari, -moz-bengali, -moz-gurmukhi, -moz-gujarati, -moz-oriya, -moz-tamil, -moz-telugu, -moz-kannada, -moz-malayalam का प्रयोग कर सकते हैं।

७) कूकी : कूकी में चयनित भाषा का संरक्षम, पूर्ण वेबसाइट के लिए, अगले ३० दिन के लिए।


संस्कृत लिप्यन्तरण
सार्वभौमिक और स्वचालित (भाग-१)
उपकरण रूपरेखा (भाग-२)
विकि विशेष (भाग-३)
तकनीकि विवरण (भाग-४)
संस्कृत वेबसाइट एकीकरण (भाग-५)
भारतीय भाषा अंतः लिप्यन्तरण परियोजना (भाग ६)
उपकरण उत्थान संबंधी सुझाव (भाग-७)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें